सोमवार, 9 नवंबर 2015

ARUN MISHRA, LUCKNOW: DIVYA JYOTI KE SHAT-SHAT NIRJHAR





दिव्य-ज्योति के शत-शत निर्झर... 

 - अरुण मिश्र 
     
ऑगन ,   द्वार ,   देहरी    पर    शुभ,                 
शत - शत  दीप  जलें,  शुचि-सुन्दर।                        
दीप  -  दीप  से,  दिव्य - ज्योति  के-                           
फूट   रहे  हों ,  शत  -  शत    निर्झर।।
   
          जगर  -  मगर   दीपों   की   लौ   में,         
          करें       लक्ष्मी   -   मइय्या      फेरे।       
          डगर  -  डगर  से , नगर -  नगर  से,       
          भागें      सब      दारिद्र्य   -    अँधेरे ।।    

हे   गजवदन!   विनायक!  गणपति!   
मुदित-मगन हों,सब जन-गण-मन।   
निर्मल   बुद्धि-  विवेक - ज्ञान- युत,   
स्वस्थ- सबल  हों,  भारत के  जन।।        

          पर्व    स्वच्छता   का,  प्रकाश   का,       
          स्वच्छ भित्तियां  औ’   घर- ऑगन।       
          आलोकित    हो   जीवन   का   पथ,       
          तन-मन स्वच्छ, स्वच्छ हो चिंतन।।    

धूम  -  धाम ,   फुलझड़ी  -  पटाखे,   
ख़ुशियां,   खील,   बताशे,   लइय्या।   
बच्चों     की     किलकारी  -  ताली,   
करे  दिवाली    ता  -  ता    थइय्या।।
                                    
          धूप   -   दीप  -   नैवेद्य     समर्पित,       
          सजी    आरती    की    है      थाली।       
          ऋद्धि  -  सिद्धि,  श्री सहित विराजें,       
          शुभ  -  मंगलमय     हो    दीवाली।।
                                     *                  
- See more at: http://arunmishra-rashmirekh.blogspot.in/2010/11/blog-post.html#sthash.Ofb3ZnnZ.dpuf

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें