शुक्रवार, 5 नवंबर 2010

ज्योति पर्व दीपावली पर विशेष

LakshmiGanesha


दिव्य-ज्योति के शत-शत निर्झर... 

 - अरुण मिश्र 
     
ऑगन ,   द्वार ,   देहरी    पर    शुभ,                 
शत - शत  दीप  जलें,  शुचि-सुन्दर।                        
दीप  -  दीप  से,  दिव्य - ज्योति  के-                           
फूट   रहे  हों ,  शत  -  शत    निर्झर।।
   
          जगर  -  मगर   दीपों   की   लौ   में,         
          करें       लक्ष्मी   -   मइय्या      फेरे।       
          डगर  -  डगर  से , नगर -  नगर  से,       
          भागें      सब      दारिद्र्य   -    अँधेरे ।।    

हे   गजवदन!   विनायक!  गणपति!   
मुदित-मगन हों,सब जन-गण-मन।   
निर्मल   बुद्धि-  विवेक - ज्ञान- युत,   
स्वस्थ- सबल  हों,  भारत के  जन।।        

          पर्व    स्वच्छता   का,  प्रकाश   का,       
          स्वच्छ भित्तियां  औ’   घर- ऑगन।       
          आलोकित    हो   जीवन   का   पथ,       
          तन-मन स्वच्छ, स्वच्छ हो चिंतन।।    

धूम  -  धाम ,   फुलझड़ी  -  पटाखे,   
ख़ुशियां,   खील,   बताशे,   लइय्या।   
बच्चों     की     किलकारी  -  ताली,   
करे  दिवाली    ता  -  ता    थइय्या।।
                                    
          धूप   -   दीप  -   नैवेद्य     समर्पित,       
          सजी    आरती    की    है      थाली।       
          ऋद्धि  -  सिद्धि,  श्री सहित विराजें,       
          शुभ  -  मंगलमय     हो    दीवाली।।
                                     *                       




 पुनश्च :
समस्त गुरुजनों, मित्रों, शुभचिंतकों, समर्थकों एवं दर्शकों (viewers) का  
ज्योति-पर्व पर सादर-सस्नेह शत-शत अभिनन्दन- वंदन | आपके एवं 
आपके परिवार के लिए दीपावली की कोटिशः मंगलकामनाएं |
- अरुण मिश्र.


4 टिप्‍पणियां:

  1. ज्योति पर्व अवसर पर बधाई और शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीया संगीता जी,प्रिय महेंद्र जी एवं समीर जी,आप सब को दीपावली की ढेरों शुभकामनायें |
    - अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं