मंगलवार, 24 मई 2011

ज्येष्ठ के प्रथम बड़ा मंगल पर विशेष

देह कुंदन( भाल चन्दन( केसरी नंदन प्रभो ---

































है आसरा हनुमान जी---



&v#.k feJ

जैसे दुख  श्री जानकी जी का  हरा  हनुमान जी।
दुख   हमारे  भी  हरो]  है  आसरा  हनुमान जी।।

देह   कुंदन]  भाल   चंदन]  केसरी  नंदन  प्रभो।
ध्यान इस छवि का सदा हमने धरा हनुमान जी।।

लॉघ  सागर]  ले  उड़े]  संजीवनी  परबत सहज।
क्रोध]  कौतुक में  दिया लंका जरा  हनुमान जी।।

मुद्रिका दी]  वन  उजारा  और  अक्षय को हना।
शक्ति का  आभास पा]  रावन डरा  हनुमान जी।।

राम के तुम काम आये] काम क्या तुमको कठिन। 
कौन   संकट]  ना   तेरे   टारे  टरा  हनुमान जी।।

चरणकमलों में तिरे निसिदिन ^अरुण* का मन रमे।
हो  हृदय  में  भक्ति का  सागर भरा   हनुमान जी।। 





2 टिप्‍पणियां:

  1. bhyee sahab kafi dino bad aap kee post par aayaa parantu kavita padhne mein nahi aa rahi hai. ismen koyee aur font dikhta hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Aadarniya Danda Ji,dhanyavad. Kripya punah dekhen. Shayad ab theek dikhe.
    -Arun Mishra

    उत्तर देंहटाएं