सोमवार, 4 अप्रैल 2011

नव-संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें !




















"जीवन में फिर से रस घोले, जीवन जीने का उछाह हो|
 नव-संवत्सर नई ख़ुशी दे, जीवन में  कुछ नई राह हो||"




रश्मि-रेख के सभी अतिथियों, आगंतुकों, शुभचिंतकों, समर्थकों एवं सन्मित्रों को नव-संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें !!!


- अरुण मिश्र.

2 टिप्‍पणियां:

  1. प्रिय राजेंद्र जी, उत्कृष्ट दोहों के रूप में नवसवंत्सर का उपहार देने के लिए आभार|
    आप को एवं आप के परिवार को हार्दिक शुभकामनायें|
    -अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं