गुरुवार, 24 मार्च 2011

अंकुर तुम बनो आम्र वृक्ष...

अंकुर तुम बनो आम्र वृक्ष...  




















( टिप्पणी : प्रिय पुत्र चिरंजीव अंकुर  की पहली 
  वर्ष गाँठ पर लिखी यह कविता, आज उसके 
  जन्म दिवस पर ब्लागार्पित कर रहा हूँ | यह 
  आशीर्वाद हर पिता की ओर से,हर पुत्र को मिले | 
  मेरे काव्य संग्रह 'अंजलि भर भाव के प्रसून ' से 
  साभार |  - अरुण मिश्र.)


- अरुण मिश्र 






















































 
              



 ***

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत बधाई अंकुर जी को जन्मदिन की !

    बहुत बढ़िया भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद प्रिय अमित जी| आपकी बधाई अंकुर तक पहुंचा दी गई है|

    -अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए आपका आभार. आपका ब्लॉग दिनोदिन आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    danke ki chot par

    उत्तर देंहटाएं
  4. रश्मि-रेख पर आने के लिए धन्यवाद,श्री हरीश सिंह जी|
    - अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं