रविवार, 20 मार्च 2011

चलो रे! खेलें फाग; होली है...

चलो रे! खेलें फाग; होली है... 


-अरुण  मिश्र 
   
चलो रे! खेलें फाग; होली है।
          
          सगरो  ब्रज में,  धूम  मची है;
          लोक-लाज, कछु नाय बची है;

इत राधा,सखियन संग निकसीं,
उत, नंदलाल  की  टोली  है।
चलो रे! खेलें फाग; होली है।।
 
              नव  वसंत   कै,  बाजै   नूपुर;
         लहरै  सरजू, उमगै  अवधपुर;
 
चलीं सीय, सखियन संग उतहीं,
जित, रघुवीर  की  टोली  है।
चलो रे! खेलें फाग; होली है।।
 
          धूम मची, कैलास-सिखर पर,
        नाचें  सिव-गनेस, डमरू-स्वर
 
सुनि गौरा, सखियन संग धाईं,
बम-भोले की भागी, टोली है।
चलो रे! खेलें फाग; होली है।। 
                                   *

3 टिप्‍पणियां:

  1. फागुन की मस्ती
    होली की हार्दिक शुभकामनायें
    manish jaiswal
    Bilaspur
    chhattisgarh

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रिय मनीष जैसवाल जी एवं प्रिय ऊर्मी जी, रश्मि-रेख पर आने के लिए मैं आप दोनों का आभारी हूँ|
    -अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं