शनिवार, 9 जुलाई 2011

टुकड़ों टुकड़ों में आ रहे बादल...


-अरुण मिश्र.






















3 टिप्‍पणियां:

  1. यें घटाएँ,
    क्या मिटाएँगी ---
    मेरे मन की जलन ?
    ...................
    ...................
    टुकड़ों - टुकड़ों में --
    आ रहे बादल ।।

    गजब् की रचना है, उसमे भी ये विरहोक्ति अद्भुत लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रिय अल्पना जी एवं प्रिय अमित जी, आप की सहृदय टिप्पणियों के लिए मैं आप दोनों का आभारी हूँ|
    -अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं