गुरुवार, 31 मई 2012

साँझ हुई है.....


साँझ हुई है.....

-अरुण मिश्र.    



साँझ हुई है।
प्रकृति-नटी ने,
सलज निमंत्रण, फिर भेजा है॥                

तरुओं   की   फुनगी ,  मंदिर   के                
कलशों    पर  से,   उतर   रही   है।                
गगन-भाल,   सागर-कपोल   पर                
मदिर  अरुणिमा,   पसर  रही  है॥                      
चूम      रही      है,    हौले  -  हौले,                      
शिखर - शिखर,   घाटी-घाटी  को।                      
मधुर  निशा  के   स्वप्न   संजोये,                                   
साँझ    सलोनी,   सँवर   रही    है॥
 
व्योम-सखी ने,
धरा-पुरुष  को,
मधु-आमंत्रण,  फिर भेजा है॥                

थके    हुये   सूरज   के   घोड़ों  को                 
भी,     कुछ      आराम     चाहिये।                
श्रम  से   कातर  जीव-जगत  को                
भी,    किंचित    विश्राम   चाहिये॥        
नयी    उर्जा,     नये    स्फुरण  से, 
फिर   से    गतिमय   हो   जीवन।        
नव-पभात में,नव गति,लय हित,        
गति   को,  एक   विराम  चाहिये॥

सांध्य-करों से,
सुख-रजनी ने,
निशा-निमंत्रण, फिर भेजा है॥        

सूरज    के     ओझल   होते    ही,        
सुख   की  सेज   सजायेगी ,  यह।        
तारों   के,   फूलों    को   चुन-चुन,        
चूनर    नवल,   बिछायेगी,   यह॥        
सुघर  चॉद  का,  तकिया रख कर,        
मीठे    सपन,     दिखायेगी,   यह।        
बाँहों  में  भर,  तन  की,  मन  की,        
सारी    थकन,    मिटायेगी,   यह॥

'लौटौ   विहग,
नीड  को, अपने';
नेह - निमंत्रण, फिर, भेजा है॥
                          *

2 टिप्‍पणियां:

  1. आप का बहुत-बहुत धन्यवाद, प्रिय सदा जी|
    शुभकामनायें|
    -अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं