बुधवार, 15 सितंबर 2010

अभियंता-दिवस पर विशेष


श्री मोक्षगुण्डम विश्वेशरैया को कोटिशः नमन ...

- अरुण मिश्र

अभियन्त्रण के हे ! महा-प्राण
संरचना के हे ! अग्रदूत
निर्माण-कला-कौशल- प्रवीण ;
इस मिटटी के सच्चे सपूत !!

अभियंताओं के शीर्ष-पुरुष !
भारत -भुवि के गौरव ललाम

है कीर्ति तुम्हारी, अजर-अमर ;
यश-काया को शत-शत प्रणाम।।





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें