रविवार, 17 अक्तूबर 2010

विजय-दशमी पर विशेष







जय  रामचन्द्र...












   












 
दशरथ-हृत्व्योम-बिहारी हे!
 
  - अरुण मिश्र
 
 जय  राम,  राम,  जय  रामचन्द्र।
 शोषित- जन- मन-विश्राम,चन्द्र।
 दशरथ -  हृत्व्योम - बिहारी    हे!
    रघुकुल  के  चिर-अभिराम चन्द्र।।

               शुचि, जीवन-मूल्यों के  मापक।
               हे पूर्ण-पुरुष! अग-जग-व्यापक।
               यश-वाहक,   संस्कृति-संवाहक।   
               मर्यादाओं       के       संस्थापक।।

    हे!   दीन - हीन   के   मन  के   बल।
    मुनि-हृदय-मीन, तव-भक्ति सुजल।
    हे!    चिर-नवीन- शुभ-आस-रश्मि।
    हे!  आर्त - दुखी- जन    के    संबल।।

               भारत-भुवि  के   गौरव   ललाम।
               हे! संत- सरल- चित- परमधाम।
               निष्काम !  करो  लीला- सकाम।
               हे!  राम,  राम,   जय   राम-राम।।
                                         *

4 टिप्‍पणियां:

  1. भारत-भुवि के गौरव ललाम।
    हे! संत- सरल- चित- परमधाम।
    निष्काम ! करो लीला- सकाम।
    हे! राम, राम, जय राम-राम।।
    *

    सुन्दर प्रस्तुति।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुचि, जीवन-मूल्यों के मापक।
    हे पूर्ण-पुरुष! अग-जग-व्यापक।
    यश-वाहक, संस्कृति-संवाहक।
    मर्यादाओं के संस्थापक।।
    Dashhare par ati sunder prastuti. Abhar.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हे! दीन - हीन के मन के बल।
    मुनि-हृदय-मीन, तव-भक्ति सुजल।
    हे! चिर-नवीन- शुभ-आस-रश्मि।
    हे! आर्त - दुखी- जन के संबल।।
    ...............

    बलिहार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीया आशा जी एवं दिव्या जी, तथा प्रिय अमित जी, आप सब तक राम जी के यश गान की गूँज संप्रेषित हुई तो कविता सार्थक हो गई| आभार|
    - अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं