रविवार, 3 अक्तूबर 2010

कभी बरसों-बरस न हो सका, तय हाथ भर का भी फ़ासला

गजल़

- अरुण मिश्र

कभी ख़त्म होगा  नहीं ‘अरुन’, ये दिलों का अपने मुआमला। 
चाहे  हॉ कहो, चाहे  ना कहो, या  कहो बुरा, या   कहो  भला।।  

कभी   रीता-रीता,   भरा-भरा,   कभी   सूखा-सूखा, हरा-हरा। 
कई   रंग   देखें हैं बाग़ ने, कभी गुल खिला, कभी दिल जला।।   

कभी कोसों-कोस की  दूरियां भी, पलक झपकते  सिमट गईं। 
कभी  बरसों-बरस  न हो सका, तय हाथ भर का भी फ़ासला।।

                                               *

2 टिप्‍पणियां:

  1. @ कभी ख़त्म होगा नहीं ‘अरुन’, ये दिलों का अपने मुआमला।
    चाहे हॉ कहो, चाहे ना कहो, या कहो बुरा, या कहो भला।।

    WAHH!! bahut badiya

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रिय अमित जी, आप को शेर' पसंद आया, इसके लिए और सतत समर्थन के लिए ह्रदय से आभार|
    - अरुण मिश्र

    उत्तर देंहटाएं