शुक्रवार, 22 अक्तूबर 2010

आदि कवि वाल्मीकि जयंती पर विशेष


















व्याध-बाण-आहत जिनके उर...

- अरुण मिश्र



कवि-मन, कुल की रीति न छोड़ो |


                      ललित कल्पनाओं की समिधा,
                      लाओ   नव  - विचार  की चूनी |
                      अंतर्मन      की     चिंगारी   से  ,
                      सुलगाओ   कविता  की   धूनी ||


हर्ष  - शोक    में ,   धूप - छांव   में,
सम   रहने  की   नीति   न  छोड़ो || 


                        सारा  कल्मष   जल   जाये  तो ,
                        तप  कर  निखरेगा  मन-कंचन |
                        काव्य -यज्ञ के  महा -ज्वाल  में ,
                        होम   करो   जड़ता   के   बंधन ||


इस  हवि  से  ही  जग  ज्योतिर्मय, 
तुम  यह  सहज  प्रतीति  न  छोड़ो ||


                          संग   धुएं   के   ऊर्ध्वमुखी   हों ,
                          गहन     वेदनाएं    सब     तेरी  | 
                          करुणा के  वाष्पित - बादल लें ,
                          आर्तजनों   के   घर - घर  फेरी || 

व्याध - बाण - आहत   जिनके  उर ,
उनसे   अपनी   प्रीति     न    छोड़ो ||

                                        *
 

                                    


                     

2 टिप्‍पणियां:

  1. कविता बहुत अच्छी लगी धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद श्रीयुत के.आर.जोशी(पाटली)जी|
    - अरुण मिश्र.

    उत्तर देंहटाएं